बीजेपी के लिए राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद – तुरुप का इक्का, विरोधियो के लिये – शह और मात

बीजेपी के लिए राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद – तुरुप का इक्का, विरोधियो के लिये – शह और मात

बीजेपी के लिए राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद - तुरुप का इक्का, विरोधियो के लिये - शह और मात

कोविंद का चुनाव प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने किया है।

राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर ऐसा नाम देने की कोशिश की है जिसका विरोध उनके विरोधी भी शायद ही करें।

बिहार के राज्यपाल कोविंद आयु 72 वर्ष। पेशे से वकील कोविंद मई 2014 में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (बीजेपी) के सत्ता में आने के बाद से पिछले दो वर्षों से बिहार के राज्यपाल हैं। कोविंद हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस कर चुके हैं।

वह बीजेपी की दलित इकाई का भी नेतृत्व कर चुके हैं। वह 12 वर्षों तक राज्यसभा सांसद रहे और कई संसदीय समितियों के सदस्य रहे।

कोविंद बीजेपी के वरिष्ठ नेता रहे हैं। कोविंद कानपुर में कोली समुदाय से आते हैं। इनकी आरएसएस की पृष्ठभूमि भी रही है।

रामनाथ कोविंद दलित चेहरा भी हैं, ऐसे में दलितों के नाम पर राजनीति करने वाले दल अपने आप ही उनका समर्थन कर सकते हैं।

विपक्ष की ओर से मांग की गई थी कि राष्ट्रपति उम्मीदवार राजनीतिक व्यक्ति होना चाहिए।

23 जून को अपना नामांकन दाखिल कर सकते हैं। राष्ट्रपति बनने पर आर. के. नारायणन के बाद दूसरे दलित राष्ट्रपति होंगे तथा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बाद 16वें राष्ट्रपति होंगे।

NEXT कर आगे पढ़ें :- इन राजनैतिक समीकरणों द्वारा 2019 के लिए हो रही है तैयारी 

Follow us on facebook -